भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-15 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दादरा

बही गैलै जी भैंसिया पानी
अजी दूधो नै मिललै जबानी में
कोठवा उठैलियै कोठरियो उठैलियै
सूतैलॅ मिललै बथानी में
छौंड़िया के तनियेटा औंगरी जे छुलियै
मिली गेलै चप्पल निशानी में
कपड़ा नै लत्ता खूबे लात जुत्ता
भरपूर मिललै किसानी में
बच्चा पर बच्चा साल्हे साल बच्चा
सभ्भे दशा पुरलै नदानी में

झूमर-दादरा

कोय भी चीजोॅ के नै छै ठहार
बनैबै केना हलुआ आज
सैयां खायलॅ करै छै कचार
बनैबै केना हलुआ आज
खोजी खोजी कॅ कढ़ैया जों मिचलै
सासूं नै घी दैछै आज।। बनैबै.।।
हाथ गोड़ जोड़ला पर घी जबॅ मिललै
चीनी लॅ भेलै अकाज।। बनैबै.।।
चीनी जों मिललै तॅ सुज्जी नै मिललै
बड़का नतीजा छै आज।। बनैबै.।।
सुल्जी मंगाय कॅ जों हलुआ बनैलियै
खाय गैलै सबटा भतार।। बनैबै.।।