भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-16 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूमर-दादरा

जागी जागी करैछी बिहान बलमुआ हमरोॅ नदान।।
बिरहा के आगिन फूंकै छै हमरा तनियोटा नै छै तरान।।
सौतिन के साथोॅ में घूमैछै सैयां हम्में नै राखबै परान।। बलमआं.।।
अइलै बसन्त रितु दुष्ट मदन सखि
ताकी ताकी मारै छै बान वलमुआ हमरोॅ नदान

दादरा

धानी चुनरिया सबुज रंग चोलिया
सालै छै जियरा जरावै छै छतिया
जुलमी उमिरिया के मदभरी अंखिया
सालै दै जियरा जरावै छै छतिया

आमोॅ के मंजरोॅ सें गमकै छै बगिया
कुहु कुहु कुहु कैछै कारो रे कोयलिया
सरसों सोहागिन के चुनरी केसरिया
सालै छै जियरा जरावै छै छतिया
दातें दवैलॅ छै कानी अंगुरिया
अंचरा उड़ावै छै पछिया बयरिया
धरती में लोटै छै लामी केसिया
सालैछॅ जियरा जरावैछै छतिया

गोरी गोरी बहियां में हरी हरी चुरिया
रुन झुन बाजैछै पैर के पायलिया
पतली कमरिया पर भरलोॅ गगरिया
सालैछै जियरा जरावैछै छतिया