भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-24 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भैरवी-दादरा

तोरा बिना सूनोॅ सैयां महल अटरिया
सोहाय छै नै तनियोटा हमरा सेजरिया
बाबा के गलिया जी भाय के देहरिया
तोंही नै तॅ हमरोॅ छै दुनियां अंधरिया
कानी कानी काटैछी कारी कारी रतिया
तों गौना कराया कॅ लियाय जा जी सैयां।।

झूमर-दादरा

हार रे ननदिया हमरोॅ लागी गे लै अंखिया
आधी आधी रतिया के पिछली पहरिया
सैयां जे अइलै रामा टुटलै नै निदिया
आबी के चल्लोॅ गेलै हमरोॅ संवरिया
जनम्है के दुखिया ननदी बड़ी रे अभागिन
आबॅ नै जाने कबॅ अइतै निमोहिया
समय पर गाछीं फोॅल केतनों तों ढारोॅ जोॅल
समयै पर मिलयौं भौजी भइया परदेसिया।।