भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-35 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चैती

हमरोॅ बलमु परदेसिया हो रामा पिया निमोहिया।।
बलमू के बगिया में बेलिया चमेलिया
हरदम गमकैछै बगिया हो रामा पिया निमोहिया।।
वैरिन कोइलियिा आधी आधी रतिया
कुहुकि कुहुकि सालै छतिया हो रामा पिया निरमोहिया।।
जों री कोइलिया पिया घरें अइलै
खूबे खिलइबौ मिठइया हो रामा पिया निमोहिया।।

चैती

पिया संग सुतबै अटरिया हो रामा चैत के रतिया
चैत के रतिया चानी के रतिया।। पिया.।।
बेलिया चमेलिया के चुनी चुनी कलिया
सेजिया पर सैयां के बिछइबै हो रामा चैत के रतिया
रसिया संवरिया कॅ बेनियां डोलइबै
हँसि हँसि गरवा लगइबै हो रामा चैत के रतिया।।