भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-37 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुरबी

सैयां चल्लोॅ गेलै रामा पुरुष बनिजिया हे
रोपी गेलै नेमुआ के गछिया ननदिया हे।।
नेमुआ के गछिया रामा फरी फूली गेलै हे
नै अइलै पियवा निरमोहिया ननदिया हे।।
जिया के जलन ननदी केकरा सें कहबै हे
भॅ गेलै सैयां परदेसिया ननदिया हे।।
बाट के बटोही भैया सुनोॅ हमरोॅ बतिया हे
बलमू सें कही दीहोॅ हमरोॅ खबरिया हे।।
तोरा बिना सूनोॅ सैयां महल अटरिया हे
काटैछी कानी कानी कॅ कारी कारी रतिया हे।।
जानै नहीं सुनै छी हौं बलमू बिदेसिया हे
केना कॅ जी चिन्हभौं परदसिया बलमुआ हे।।
हमरोॅ बलम जी के घुट्टी सोभे धोतिया हे
मुहमां में भरलोॅ बीड़ा पान ननदिया हे।।

कजरी-दादरा

आबी गेलै बरखा बहार हे ननदी
बलमा नै अइलै लभार हे ननदी।।
सूनोॅ सूनोॅ सेजिया बड़ा दुख दैछै
रात भर धुनैछी कप्पार हे ननदी।।
सैयां जी लिखलकै कि सावनोॅ में अइभौं
अइलै नै बलमा लचार हे ननदी।।
सोलह बरस हमरोॅ बारी रे उमिरिया
केकरा लॅ करबै सिंगार हे ननदी।।