भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-43 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

संस्कार गीत


सोहर

चैत सुकुल तिथि नवमी हो रामा राम के जनम दिन
मध्य दिवस सुखदायी हो रामा राम के जनम दिन
अधिक न शीत न घाम हो रामा राम के जनम दिन
नगरी अयोध्या में बजये बधावा
घर घर हिय में हुलास हो रामा राम के जनम दिन
मातु कौसल्या मोती लुटावये
दशरथ अन धन सोनमा हो रामा राम के जनम दिन
रामजी भरतजी के श्याम बरन तन
लछमन रिपुहन गोर हो रामा राम के जनम दिन

सोहर

चैत सुकुल तिथि नवमी अयोध्या जनम भेलै हो
ललना घर घर बजये बधावा श्री राम के जनम भेलै हो
चहु दिसि चउक पुरावये दीप जरावये हो
ललना जगमग नगरी अयोध्या श्री राम के जनम भेलै हो
धन दशरथजी के भाग धन्य धन कैकेयी हो
ललना रे धन्य सुमित्रा कोसल्या श्री राम के जनम भेलै हो
कोसल्या लुटावये सोनमा कैकेयी मनि मालिक हो
ललना राजा लुटावये खजनमा श्री राम के जनम भेलै हो
श्याम बरन सीरी राम भरथ तन सांवर हो
ललना रे लछमन रिपुहन गोर श्री राम के जनम भेलै हो
आजु जनम दिन रामजी के चैत के शुभ दिन हो
ललना रे ॅ लालॅ सुनावये सोहर राम के जनम दिन हो।।