भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-47 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सेहर

नन्द के ललना जसोमती अंगना
झूलैछै पलना झुलावैछै ललना
गावैछै सोहर सुमधुर बैना
खन खन खनकैछै हाथोॅ के कंगना
रतन-जड़ित चन्दन के पलना
रेशम के डोरी रेशम के फुदना
श्याम जलद सम मनहर बदना
कानन सेवत राजिव नयनां
शेष सहस मुख सें नहिं बरना
लज्जित छबि लखि कोटिक मदना
जुग जुग जीहौं जसोमती ललना
ॅलालॅ ललन तोरोॅ पति तीन भुवना।।

बधैया

बाबूजी लेॅ केॅ अइलै बबुआ के बधैया
अम्मा जी लेॅ केॅ अइलै बबुआ के बधैया
लेॅ केॅ बधैया दुअरिया पर अइलै देखी केॅ हिया हुलसैलै
ननद हमरी आबी गेलै लेॅ केॅ बधैया
साजी केॅ थरिया में गहना चुनरिया
गोटा के लहगा टिकुलिया
सासूजी लेॅ केॅ अइलै सोनमा के बेसरिया
बबुआ के कपड़ा मांगोॅ के सिनुरिया
भरलोॅ खेलौनां सें डलिया
सैयां जी लेॅ केॅ अइलै बबुआ के बधैया।