भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-50 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुडलोॅ

धन दशरथ तोरोॅ भाग रामजी के मंूडनोॅ
अहे धन कोसल्या के भाग रामजी के मूंडनोॅ
कोसल्या लुटवाये अन धन सोनमा
कैकेयी मोती के माल रामजी के मूंडनोॅ
नौआ केॅ दीहोॅ मैया सोनमां के छुरिय
नाउनी केॅ सोनमा के गुरिया बबुआजी के मुंडनोॅ

अबटन

धन दशरथ जी के भाग राम केॅ ऊवटन लागे
रतन जडिं़त सोना के पिढ़िया
वै पर बिराजे राम राम केॅ ऊबटन लागे
मातु कोसल्या ऊबटन लगावये
अत्तर तेल फुलेलवा बबुआजी केॅ ऊबटन लागे
मौसी सोहागिन ऊबटन लगावये
आरो तेल फुलेल बबुआ केॅ ऊबटन लागे
चलोॅ चलोॅ सखि सब ऊबटन लगाबॅ
बरुआ केॅ तेल फुलेन बरुआ केॅ ऊबटन लागॅ।