भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-51 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तिलक

अइलै तिलक के बरात हे सखि जोड़ा पिन्हाबोॅ लाल केॅ
अजि सात सोहागिन मिलिजुलि केॅ जामा पिन्हाबोॅ लाल केॅ
जामा पिन्हाबोॅ जोड़ा पिन्हाबोॅ मोजा पिन्हाबोॅ लाल केॅ
आबी गेलै शुभ दिन आज हे सखि खूबे सजाबोॅ लाल केॅ
औंगठी पिन्हाबोॅ घड़ियो पिन्हाबोॅ माला पिन्हाबोॅ लाल केॅ
बेलिया चमेलिया के गूथी केॅ गजरा सखि हे पिन्हाबोॅ लाल केॅ
सात सोहागिन मिलिजुलि केॅ सखि गजरा पिन्हाबोॅ लाल केॅ

सोहाग

दुलहा लेॅ केॅ अइलै सोहाग सोहागिन हुलसी केॅ लेॅ
बलमा लेॅ केॅ अइलै सोहाग सोहागिन हुलसी केॅ लेॅ
सासु लेॅ केॅ अइलै सोहाग सोहागिन हुलसी केॅ लेॅ
मोती के माला जड़ावदार कंगना
सैयां आनल कै सोहाग सोहागिन हुलसी केॅ लेॅ
चानी कटोरिया में लेॅ केॅ सिनुरिया
सैयां आनल कै सोहाग सोहागिन हुलसी केॅ लेॅ
सासू भेजल कै सोहाग सोहागिन हुलसी केॅ लेॅ
मामी भेजल कै सोहाग सोहागिन हुलसी केॅ लेॅ
गंगा जमुनमां के जब तक छै धारा
तब तक रहौंजी सोहाग सोहागिन हुलसी केॅ लेॅ।