भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-59 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोभरोॅ

तोरोॅ नयनमा रसदार जी बनारस वाली
तोरोॅ नयनमा रतनार की जबाबे झाली
तोरोॅ चुनरिया चटकदार जी नैहर वाली
तोरोॅ कमिजिया धारीदार जी जनाबे-आली
चढ़ती जवानी तोरोॅ गजभर के छतिया जी
मुछिया छौं भुंवरा गुंजार जी जनाबे-अली
गोरोॅ गालोॅ पर तोरोॅ करिया जे तिलवा गोरी
छतिया मंे भोकैछै कटार जी बनारस वाली
आबोॅ जी आबोॅ धनी बतिया सुनोॅ तेॅ तनी
मनवां नै मानैछै हमार जी बनारस वाली
हठ तांे करोॅ नै सैयां तोरोॅ पड़ैछी पैयां
सास ननद गोरकार जी जनाबे-अली
तोरोॅ नै सुनभौं बतिया हम्में लगैभौं छतिया
आय तेॅ छै सोहागोॅ के रात जी बाबा के प्यारी

कोभरोॅ

हीरा के मोहन माला सोना के मोहन माला
बाबा के जी देलोॅ हे प्रभु हीरा के मोहन माला
सूतली छेलां कोहबर में पीन्ही ओढ़ी मोहन माला
ससरी केॅ गिरलै हे प्रभू हीरा के मोहन माला
कहां गेलै की भेॅ गेलै लाड़ो तोरोॅ मोहन माला
हम्में नै देखलिहौं हे छनी हीरा के मोहन माला
अम्मा देलोॅ मोहन माला बाबा देलोॅ मोहन माला
तोंही तेॅ चौरैलहें हे प्रभु हीरा के मोहन माला
चल्लो जइबोॅ मोहन देसवा, दोसरो करबोॅ बीयहवा
हम्में नै लेलेॅ छी हे धनी हीरा के मोहन माला
जनिजा मोरंग पिया करंोॅ नै दोसरोॅ बीहा
हम्में परि तेजलां हे प्रभु हीरा के मोहन माला