भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-60 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मंथबन्ही

बलमु हुमरा लानी देॅ पटना सें मुनरी
पटना सें मुनरी बनारस सें चुनरी
ढाका सें मलमल के अंगिया मंगइहो
तों लानी दीहोॅ कानोॅ लॅे सोना के मकरी
गल्ला के नेकलेस जड़ावदार सिकरी
तों लानी दीहोॅ हमरा लेॅ हीरा के बेसरी
एतने अरज पिया एतने जी विनती
तों लानीहोॅ नै घरोॅ में बियाही केॅ दोसरी
कहीं तों जों सैयां लेॅ केॅ अइल्हे जी दोसरी
तेॅ देखी लीहोॅ मरी जइभौं हम्में हुकरी हुकरी

मथबन्ही

दान मांगे बनरा दहेज मांगे बनरा
कार मांगेॅ कारोॅ लेॅ गैरेज मांगेॅ बनरा
मैया लेलोॅ सासू सें मेसेज मांगेॅ बनरा
भइया लेलोॅ सारी से मिसेज मांगेॅ बनरा

लाड़ो लेलोॅ अप-टु-डेट काटेज मांगे बनरा
लन्दन जायलेॅ एयर के पैसेज मांगेॅ बनरा
नेग मांगॅ अंचरा-धराय मांगेॅ बनरा
सासूजी सें भेंड़ा के कटाय मांगेॅ बनरा
सारी सरहज सें पियार मांगेॅ बनरा
सासू सें ससुरोॅ सें दुलार मांगेॅ बनरा
मान सनमान पकवान मांगेॅ बनरा
सोना हेनी धीया लेॅ मकान मांगेॅ बनरा