भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-63 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गारी

हम्में तोरा सें समधी विनय करैछी
हम्में भइया लेॅ तोरोॅ बहिन मांगैछी
भइया छै हमरोॅ बड़ी गोरोॅ लारोॅ
तोरोॅ बहिनिया के नाम सुनैछी
छोटका मामू हमरोॅ बारोॅ कुमारोॅ
मामू लेॅ छोटकी बहिन मांगैछी
रसिया मामू के छै गज भर के छतिया
समधिन के तेन्हे सुनाम सुनैछी
सुनलॅ छी समधिन छै बड़ी रे गितारिन
गाना सुनैलेॅ बेहाल रहै छी
फुफू तोरोॅ समधी बड़ी रे नचनियां
देखैलेॅ फुफू के नाच चाहै छी

बन्ना

ढोल बाजेॅ दुअरा धमरु आबेॅ ऐंगना
धाबोॅ बन्ना आबोॅ बन्ना आबोॅ हमरोॅ ऐंगना
बाबा के पियारोॅ आबोॅ आबोॅ हमरोॅ ऐंगना
अम्मां के दुलारोॅ
बन्ना तोरोॅ मोरिया में हीरा आरी पन्ना
बन्नी के जी हाथोॅ में जड़ाबदार कंगना
बन्ना तोरोॅ आंखी में लागलोॅ छौं सुरमा
बन्नी के दांतोॅ में मिस्सी केसोॅ में फुदना
बन्ना गोरोॅ गाल तोरोॅ रसदार नयना
गोरी गोरी बन्नी चमकै छै जेना अइना