भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शीतल / राखी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घाव के चिन्हों से पटी पड़ी काया पर
किसी अप्रत्याशित घात के निमित
अंश मात्र भी
स्थान शेष नही

तुम्हारी पैठ का अनुमान
तुम्हारे धँसाये शूल से हुआ

मेरी तरह
क्या तुम्हें भी आश्चर्य नही
कि इन मवादों के लिए
मैं तुम्हारे ही ओठों की
गर्म फूंक चाहती हूँ