भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शीतोॅ में नहैलोॅ एक कमलोॅ के कलिका कि / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शीतोॅ में नहैलोॅ एक कमलोॅ के कलिका कि
शरदोॅ के आसमां के नीलिमा अथाह छै।
जोग तप साधना आ वेद या वेदान्त सब
झूठ माया एक सत्य एकरै गवाह छै।
गुमसुम सपना में डुबलोॅ ई अखिया की
झील याकि चील याकि झीलनी के डाह छै।
तान बांसुरी के याकि बीण के मदिर बंद
याकि कविता के छंद कामिनी के चाह छै॥