भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शुक्रतारा / मदन वात्स्यायन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नए दूल्हे-सा सूरज, नववधू सा पीछे-पीछे यह
                                   शुक्रतारा जा रहा है ।

बदल रहा है रंग आसमाँ का क्षण-क्षण
                               बदल-बदल यह जगमगा रहा है ।
इंजन के हेडलाइट-सा ; शोरगुल के बीच
                                सूरज निकल गया ।
गार्ड की रोशनी-सा पीछे पीछे गुमसुम अब
                               शुक्रतारा जा रहा है ।

हमारी बस्ती में दिये-से, बल्ब-से (पैट्रोमैक्स-सा चाँद),
                                 चारों ओर बल उठे तारे ।
दूरी में बैलगाड़ी की लालटेन-सा यह
                                  शुक्रतारा जा रहा है ।

शहर को अँधेरा कर हवाई जहाज़ से
                              मिनिस्टर चले गए ।
’जनता’ से एम० एल० ए०-सा पीछे-पीछे यह
                                शुक्रतारा जा रहा है ।

कि भटक न जाएँ, राहगीरों की ख़ातिर
             शाम को जला के मशाल अब शुक्रतारा जा रहा है ।
तपता सूर्य गया चिल्लाते ’राह दिखाते’ कौड़ियों-से
                                    सितारे दौड़ आ भरे ।
अपने सब कुछ की रमाने धूनी अब क्रान्ति-दृष्टा
                                     शुक्रतारा जा रहा है ।

है नेहरू एक वतन का प्यारा सताए हुओं को है
                                   जिस पर भरोसा ।
हमारा आँखों में अब भी चमक है कि बीच आसमाँ में
                                वह सितारा जगमगा रहा है ।

बीवी, सजा दियों का थाल लाओ, ज्योति भर लो ।
कि हमारे आसमान को सूना कर के रश्के देवता यह
                                       शुक्रतारा जा रहा है ।