भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शृंगिनी / वीरेन्द्र कुमार जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन दिगन्तरगामी
पर्वत-शृंगों पर
तुम बैठी
दिखाई पड़ती हो :

तुम
जो कभी नहीं थीं,
अभी नहीं हो,
कभी नहीं हो‍ओगी...

तुम
जो सदा थी,
सदा हो,
सदा रहोगी...

उन दिगन्तरगामी
पर्वत-शृंगों पर
सदा मुझे
तुम्हीं बैठी दिखाई पड़ती हो...।



रचनाकाल : 21 मई 1963, गजपन्थ सिद्धक्षेत्र