भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शेरपा-1 / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढलान पर था लामा
पहाड़ी रास्ते पर
रक्तिम परिधान
ने चखा न था
स्वाद पसीने का,
स्वाद नमक का
उसकी जीभ को पता है

क्या करता है लामा
कैसे रहता है विशाल
इस मठ में बिना दुख के

कितने लामा रहते होंगे
इतने बड़े मठ में
कि जहाँ छुपने की जगह
भी नहीं पाता है दुख

दुख, जो शेरपा के
जीवन में इस तरह आता है
लगा कर बैठा था घात
जाने कब से भूखे शेर की माँद में

दुख, शेरपा के घर में
सबसे बुजुर्ग सदस्य है
सुख, नाम है जिस मेहमान का
रहता है इंतज़ार उसका
शेरपा को

चढ़ाई पर था शेरपा
लामा, ढलान पर था ।