भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शेरपा-2 / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शेरपा की पीठ पर लदी
एक थकी हुई पृथ्वी
जिसे वह ढोता आ रहा है युगों से
एक दोहरी रस्सी के सहारे

कपाल पर कसी पट्टी से लटकती
रस्सी के सहारे
थकी हुई पृथ्वी को ढोते
शेरपा की रीढ़ झुकी रहती है

युगों से तनकर खड़ा नहीं हुआ
शेरपा,
किसी एटलस की तरह
ठगा-सा शेरपा
युगों से खड़ा है
ला डेन ला रोड पर ।