भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शेरपा-3 / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढलती हुई उम्र में
वह चढ़ाई पर था
समुद्र-तल से सात हज़ार चार सौ फीट
ऊँचाई पर,
सैलानियों के रेलमपेल में
शेरपा को कुछ और नहीं भाता,

न मिरिक झील का विस्तार
न बादल, न बारिश, न पहाड़
उसे क्रिप्टोनेरा जैपोनिका के
आकाश छूते दरख़्त भी नहीं लुभाते

उसे बस उतना पता है
कि उसके रास्ते में
बाँए हाथ की ओर खाई
और दाहिने हाथ की तरफ पहाड़ है
इन दोनों के बीच
एक रास्ता है जिस पर
उसे अभी और जाना है ।