भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शोक / शुभा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी उम्र नहीं हुई थी
लेकिन वह चला गया
अभी तो जीवन शुरू भी
नहीं हुआ था

उसके जाने पर मैने महसूस किया
दुनिया छोटी हो गई है

अब भी पानी ठण्डा था
लेकिन उतनी ठण्डक कम हो गई थी
जितनी वह महसूस करता था
असल मे उतना पानी ख़त्म हो गया था

उतनी दुनिया उतना दृश्य
ख़त्म हो गया था जितना वह देखता था

उसकी अनुपस्थिति हवा-पानी
दुनिया मे महसूस की जा सकती है

यहाँ तक कि भाषा
अपनी एक भंगिमा भूल चुकी थी
दुख और ख़ुशी की एक एक लट
ग़ायब थी

हालाँकि सब कुछ पहले जैसा ही था
शान्त एकरस और हलचल से भरा।