भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

श्रमिक बोल / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

१.
बोली-बोलऽ, चोली खोलऽ,
चोली के भीतर, लाल कबूतर,
खाए के मांगे, सबुज दाना,
धर-धर लेइयें पर, पांजर मोटा,
खइबऽ सोटा, धर धरेसी,
ध के पेसी, पेसन वाला,
है मतवाला, ढिलवा भैया,
करे ढिलाई, ओकर मउगी, करे सगाई।

२.
हाथ भरो जी - हैसा,
जोर करो जी - हैसा,
जोर जुगुती - हैसा,
हो छुट्टी - हैसा,
छुट्टी होना - हैसा,
मौज उड़ाना - हैसा,
मौजेदारी - हैसा,
साव मदारी - हैसा,
घाम-घमैला- हैसा।