भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

श्रीराम / रोहित आर्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ मेरे राम के वंशजो सब सुनो,
ज़ुल्म श्रीराम पर तुम न ढाया करो।
मानते जिनको भगवान हो तुम सभी,
मेरे श्री राम को न नचाया करो॥1॥
ऐ मेरे राम के...
बाप-दादा के जैसे श्री राम थे,
कितने सुन्दर किये उम्र भर काम थे।
स्वांग करवा के ख़ुद अपने उस पुरखे का,
खिल्ली हरगिज़ नहीं तुम उड़ाया करो॥2॥
ऐ मेरे राम के...
राम पुरुषों में उत्तम कहाये गये,
और मर्यादा में सिर्फ़ पाये गये।
स्थापित कर गये ऊँचे प्रतिमान वो,
उनके सूरज को तुम न डुबाया करो॥3॥
ऐ मेरे राम के...
धीर थे, वीर थे, राम गम्भीर थे,
मेरे भारत की वह सच्ची तस्वीर थे।
बाप की आज्ञा को मान वन को गये,
उनका यह रूप सबको दिखाया करो॥4॥
ऐ मेरे राम के...
भाइयों से उन्हें प्रेम भरपूर था,
राग और द्वेष उनसे बहुत दूर था।
माँ-पिता के लिए वह समर्पित रहे,
उनके गुण अपने जीवन में लाया करो॥5॥
ऐ मेरे राम के...
राजसत्ता से कोई न अनुराग था,
एक क्षण में किया राज्य का त्याग था।
राज्य आया-गया एक से ही रहे,
ऐसा धीरज दिलों में समाया करो॥6॥
ऐ मेरे राम के...
गुरुओं का करते सम्मान श्री राम थे,
करते संध्या-हवन वह सुबह-शाम थे।
जिन गुणों से कहाये हैं भगवान वो,
उनको जीवन में अपने भी लाया करो॥7॥
ऐ मेरे राम के ...
एक पत्नीव्रता थे मेरे राम जी,
गैर नारी पै हरगिज़ न दृष्टि रखी।
अपनी को छोड़कर के किसी नारी पै,
आप दृष्टि न हरगिज़ जमाया करो॥8॥
ऐ मेरे राम के...
भेद और भाव से वह बहुत दूर थे,
प्रेम से मेरे श्रीराम भरपूर थे।
भील, वानर लिये रीछ भी साथ में,
ऐसा आदर्श तुम भी दिखाया करो॥9॥
ऐ मेरे राम के...
संग सुग्रीव ले बाली संहारा था,
ले विभीषण को लंकेश को मारा था।
साथ में ले लिये वीर हनुमान जी,
राम की नीति जीवन में लाया करो॥10॥
ऐ मेरे राम के...
नीच बाली को मारा मेरे राम ने,
उसको मरवाया उसके ग़लत काम ने।
भाई की पत्नी को छीनने पै मरा,
राम का क्रोध न आजमाया करो॥11॥
ऐ मेरे राम के...
नारी की अस्मिता के लिए लड़ गये,
इसलिए जाके रावण से वह भिड़ गये।
वंश सारा मिटा डाला लंकेश का,
उनकी गाथा को हरदम सुनाया करो॥12॥
ऐ मेरे राम के...
राम को आप बिल्कुल नचाओ नहीं,
धब्बा दामन पै उनके लगाओ नहीं।
कीजिये पूजा उनके चरित्रों की तुम,
गीत "रोहित" के सँग ख़ूब गाया करो॥13॥
ऐ मेरे राम के...