भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संकेत / किरण मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रथम परिचय
और फिर
ख़यालों के चरखे पर
स्वप्नों की रूई कातना
बडी आम-सी
बात है

हर एक को
दूसरे व्यक्तित्व से
रंग-बिरंगी उम्मीदें होना
नहीं तो कोई
नई बात है

संकेत है केवल
मन जुडने को आतुर
हर दिशा में
गतिमान है