भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संबंध / हुसैनी वोहरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पतझड़ रा पात ज्यूं
संबंध आजकाल होयग्या
पल मांय बण जावै
तूट जावै छिन मांय
तूटै ज्यूं डोर।
 
संबंधां रो मोल
अब नीं दिखै
संबंध बणग्यो
मतलब रो दूजो नांव
इण खातर ई
बणावां अर तोड़ देवां
निभावां संबंध
दिखावै सारू....
कैयो नीं आज संबंध
होयग्या है-
पतझड़ रा पात ज्यूं।