भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

संमला मोरी गली व्है के आव / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

समला मोरी गली व्है के आव
तोरी प्रीति के लाने समला मैं भयउं बरेजे का पान
कली कली मैं तोही खोंटि खवायउं तऊ न मानिसि कान
संमला मोरी गली व्है के आव
तोरी प्रीति के लाने संमला मोर सूखा जात शरीर
ये एक सूखी अंखियां बाउर कि भरि भरि आवइ नीर
संमला मोरी गली व्है के आव