भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संस्कार / कीर्ति चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब र किसी को भला कहूँ क्या !
ख़ुद यह मेरा मन
असफल करता रहता है
मेरी उक्ति सदा
प्रतिदिन प्रतिक्षण उससे बदला लेना है
उससे नफ़रत करनी है
इस पर आड़े सीधे, जैसे भी बने
मगर हारों की ज़िम्मेदारी रखनी है...
पर मिलने पर बस
वही नमन वंदन सिहरन ।