भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संहार /राम शरण शर्मा 'मुंशी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये खुले-अधखुले अंग
केश के पाश
सुगढ़ तन की मरोड़,

             लावण्य, लोच
             मृदु हास
             सुदृढ़ भुज वल्लरियाँ
             वर्तुलाकार,

उच्छ‍वसित
कठोर उरोजों में
ज्यों छिड़ी होड़ !

             ये अंग
             गंग की धारा में
             निरुपाय, निसत्व, अपंग

सहज
कितने जीवित शव
रहे छोड़ !