भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सखि! भँवरवा हो / जयशंकर प्रसाद द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चढ़ते मधुमास केहु-केहु भइल खास
सखि भंवरवा हो! अदबद कोढ़िए प जाय॥

चारो ओरी फूटे लगल प्रेमरगिया
काहें भुलाइल बाटे गहगह बगिया
अचके में आवे लगल केहु रास।
सखि भंवरवा हो! अदबद कोढ़िए प जाय॥

सौतिन लागेले टुसिआइल गछिया
काहें मुँह फेरलें आपन संघतिया
सोची सोची होता मनवा उदास।
सखि भंवरवा हो! अदबद कोढ़िए प जाय॥

गवें गवें प्रेम चढ़ल दिन रतिया
हिया डहकावेले पियउ क बतिया
सपनो में पाई पियवा फूलल परास।
सखि भंवरवा हो! अदबद कोढ़िए प जाय॥