भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सगपण : दो / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निराकार आंधी ई
दीन्हौ ओ रूप
लखीजै जकौ धोरौ।

आंधी नीं
आ आतमा है
आज अठै
कालै कठै
बसेरौ नवी काया
नवो रूप
बेसकां क्यूँ
थूं रूंखड़ा!