भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सगरे समैया कोसिका सुति वैसि गमौले / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सगरे समैया कोसिका सुति वैसि गमौले,
हे भादो मास
मैया फेंकल पलार कि भादो मासे ।
सबहुक नैया कोसिका अमरपुर हे पहुँचल,
कि मोरै नैया
उसर गे लोटावे कि मोरे नैया ।
देबहुं गे कोसिका जोढ़ी गे पाठी कि घर गेने
हे कोसिका चढ़ैवौ पाकल पान मैया घर गेने ।