भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सगरे समैया कोसी मैया / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सगरे समैया कोसी मैया, सुती-बैठी गमैले हे
कोसी मैया सजलै बरीयात हे भादो मास
सब केरोॅ नैया हे कोसी माय
अमरपुर पहुँचलेॅ हे मोरा नै
हे मोरो नैया देलेॅ भसियाय
यही पार देबै कोसी माय दसौना बीर पान
वही पार देबै कोसी माय
दुधवा के ढार देबहै वही पार
जानू, कानू, जानू, खीझू मल्लाहा रे मैया
नैयो लगैबौ सीधे धार ।