भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सच के ह़क में खड़ा हुआ जाए / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच के हक़ में खड़ा हुआ जाए
जुर्म भी है तो ये किया जाए

हर मुसाफ़िर में ये शऊर कहाँ
कब रुका जाए कब चला जाए

बात करने से बात बनती है
कुछ कहा जाए कुछ सुना जाए

राह मिल जाए हर मुसाफ़िर को
मेरी गुमराही काम आ जाए

इसकी तह में हैं कितनी आवाज़ें
ख़ामोशी को कभी सुना जाए