भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सच जी जोति / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच जी जोति जलाइ तूं बंदा-सच जी जोति जलाइ बंदा
फ़िरक़नि में तूं छो थो फासी
मन तां मैल हटाए बंदा- सच जी जोति जलाइ बंदा

लुड़क लिकाए अखिड़ियुनि में तूं
दुख खे दॿाए अंदर में तूं
ॿियनि खे ख़ूब खिलाइ-उथी सच जी जोति जलाइ तूं बंदा

जेके रुठल सभु तो सां आहिनि
कुर्ब जा कुठल सेई आहिनि
तिनि खे वञी परचाइ बंदा- सच जी जोति जलाइ तूं बंदा

जंहिं भी हितड़े सच चयो आ
तंहिं खे सदाईं मार पई आ
पर आखि़र जय जयकार- सच जी जोति जलाइ तूं बंदा

दुनिया सारी दर्द कहाणी
उमिरसॼी वेई धोखे में ‘निमाणी’
अड़े उथ तूं देर न लाइ बंदा- सच जी जोति जलाइ तूं बंदा