भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सच है ! संदेह का काम नहीं है / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच है, संदेह का काम नहीं है |
ये असंतजन, संत रूप में, क्या ये शठ बदनाम नहीं है ||
ठगते रहते नदी ज्यो बहते, ये क्यों थकी हैं कहते-कहते |
माया पूंजी जोड़ जोड़ कर, देखे सुबह शाम नहीं हैं ||
सिद्ध बने फिरते है सारे, देखो तो इनके मुख कारे ।
इनको पता चलेगा कैसे, क्यौकि इनमें राम नहीं है ॥
टीवी देखे फोन लगाकर, कारें घूमें बीगुल बजाकर |
कहे शिवदीन भरत खंड भारत, क्या ये पीते जाम नहीं हैं ||
चेली बाबाओं के सौदे, बेटा एक नहीं, यें दो दे |
हाय ! असाधुन की यह टोली, प्रगट कोई भी वाम नहीं हैं ||