भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सजि सेज रँग के महल मे उमँग भरी / हरिश्चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सजि सेज रँग के महल मे उमँग भरी ,
पिय गर लागि काम कसकेँ मिटाए लेति ।
ठानि विपरीत पूरे मैन के मसूसनि सोँ ,
सुरति समर जय पत्रहिँ लिखाए लेति ।
हरिचँद केलि कला परम प्रवीन तिया ,
जोम भरि पियै झकझोरनि हराए लेति ।
याद करि पीय की वे निरदई घातेँ आज ,
प्रथम समागम को बदलो चुकाए लेति ।


हरिश्चन्द्र का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।