भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सड़क सोचती है / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पान चबाने वाले मुँह से
पीक मार चल देते हैं।
जले हुए सिगरेट के टुकड़े
कहीं डाल चल देते हैं।

रद्दी कागज, खाली बोतल
फेंक-फेंक चल देते हैं।
नज़र बचाकर या चुपके से
देख-दाख चल देते हैं।

साफ सड़क की झोली फिर
कूड़े से भरती जाती है।
नाक बंद कर अपनी-अपनी,
भीड़ गुजरती जाती है।

सड़क सोचती है-यदि कूड़ा
यूँ ही भरता जाएगा।
कूड़े में इंसान कहीं भी
नज़र नहीं फिर आएगा।