भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सदाईं रहियो वहमु कुछु थियो, को आयो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सदाईं रहियो वहमु कुछु थियो, को आयो।
न जीअ तां लथो डप जे आहट जो सायो॥

कॾहिं ज़िंदगीअ जो न पियो मूं ते सायो।
लॻे थो त मूंखे जिअणु ई न आयो॥

किनारो छुले कंहिं सां ग़म-सूरु, छोलियुनि।
त हुन खे रोई पंहिंजो दुखड़ो ॿुधायो॥

मुंहांडनि ते वहिंवारी मुरिकुनि जा पर्दा!
अञा और रंगीन बनाए लॻायो॥

कएं रंज व ग़म मुंहिंजी ॻोल्हा में आहिनि।
जिआं थो मां शइरनि में ख़ुद खे लिकायो॥

सॾे यादि थी चँड जी कटहरे मां।
कमल ॻोठ जे खुॾ जो पैग़ामु आयो॥