भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सदाईं सब्ज़ रखी मूं विजूद जी खेती / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सदाईं सब्ज़ रखी मूं विजूद जी खेती।
तमाम उमिरि सवालनि जा फ़सुल लुणींदो रहियुसि।

सदियुनि जी रात टिकियल जिअं जो तिअं रही क़ाइम।
सदियुनि खां सुबह जी आमद जो हुलु सुणंदो रहियुसि॥

हयाति ग़म या खु़शी सभु, गुमानु वहम हुआ।
कॾहि हू मूं खे कॾहि मां इन्हनि खे चुणंदो रहियुसि॥

का छांव रोलू तबियत खे रास न आई दोस्त।
मां झंग-झंग कॾहिं शहर-शहर भुणंदो रहियुसि॥