भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सनमन / राजेन्द्र शर्मा 'मुसाफिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डगमग करती तिरै
कागद री नावां
स्यांत पाणी मांय
हवळै-हवळै।

सनमन अर हेत
बगै मधरा-मधरा
फगत रंग्या-पुत्या
चै‘रां माथै
हियै बायरा।

लै‘रां री फटकार सूं
आंतरै
समदर जैड़ी ऊंडाई सूं
आंतरै।

कद आयज्या
बायरै रौ फटकारौ
कद आयज्या भूचाळ
खिंडज्या-डूबज्या नावां
उड़ज्या-धुपज्या रंग।