भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सन्नाटा / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक कोई सन्नाोटा
रात को बाँधता जाता हुआ
एक कोई सन्नाोटा
नींद को
लाँघता जाता हुआ
एक कोई सन्नाजटा गलियों में घूमता हुआ
एक कोई सन्नाजटा घर-घर कुछ ढूँढता हुआ
मैं इस सन्नाजटे में टूटता हुआ
एक कोई सन्नाजटा मुझ में ही
टूटता हुआ !