भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपने और प्रेम-१ / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी ने कहा
सपनों का मर जाना खतरनाक है
तुमने कहा - प्रेम करना
मैं करती रही प्रेम
बिना जाने तुम्हारा मन
मैंने कोशिश की जितनी
पास आने की
उतने ही दूर हुए तुम
तुमने बढ़ाई दूरी जितनी
करीब हुई मैं
तुम जग रहे थे
इसलिए नहीं देख सके सपना
मैं सपने में थी
जग न सकी
दोनों ने नहीं जाना वह
जो जानना कभी खतरनाक नहीं होता