भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपने में गिरते देखे थे पक्के पक्के फल / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सपने में गिरते देखे थे पक्के-पक्के फल ।
आँख खुली तो हाथ में आए कच्चे-कच्चे फल ।

हम ठेले तक पहुँचें-पहुँचें इससे पहले ही,
सेठ महाजन छाँट के ले गए अच्छे-अच्छे फल ।

जीते जी रोटी न मिली जिस बूढ़ी काकी को,
उसकी तेरहवीं ने खाए महँगे-महँगे फल ।

भाव न कम हो जाएँ इस डर के मारे अक्सर,
सड़ जाते हैं गोदामों में रक्खे-रक्खे फल ।

देख के इतना ज़हर फ़िज़ाओं में डर लगता है,
सूख न जाएँ पेड़ों पर ही लटके-लटके फल ।

आज का बोया आज ही काटेंगे ये मत सोचो,
कुछ तो वक़्त लगेगा बीज को बनते-बनते फल ।

जिस-जिस ने मन्दिर में कुछ फल-फूल चढ़ाए ’नदीम’,
उस-उस ने परसाद में पाए मीठे-मीठे फल ।