भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपनों पर नाखून / मोहिनी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे सपनों का गुब्बारा
जिसपर लिखा था 'मन'
तुमने ही फुलाया था ना
खामोशियों की हवा भरके?
तुम्हारे होंठों ने ही दी थी ना
इसे उड़ाने उम्मीदों की?
फिर क्यों दिया इसे सच के हाथों में?
सपनों के नाखून बहुत बड़े होते हैं।