भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सफ़र को और कुछ दुश्वार करते / मदन मोहन दानिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सफ़र को और कुछ दुश्वार करते,
अभी मंज़िल को तुम इन्कार करते ।

ये क्या कि उम्र भर चारागरी की,
किसी को इश्क़ मे बीमार करते ।

तो एक दिन तुमसे ख़ुशबू आने लगती,
अगर फूलों का कारोबार करते ।

तमन्ना है ये दिल मे तेरी ख़ातिर,
किसी दिन हम भी दरया पार करते ।

तो फिर ऐसा हुआ कि रो पडे हम,
कहाँ तक ज़ुर्म का इक़रार करते ।

अगर बेजान होते सूखे पत्ते,
तो कैसे दश्त को होशियार करते ।