भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सफ़र में था अब भी सफ़र कर रहा हूँ / विष्णु सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सफ़र में था अब भी सफ़र कर रहा हूँ।
कि जीने की कोशिश में मैं मर रहा हूँ।

चरागों को इक रोज़ बुझना पड़ेगा,
ये मैं जानता हूँ मगर डर रहा हूँ।

सिवा मेरे कुछ और उसको न भाया,
मैं उसका पसंदीदा ज़ेवर रहा हूँ।

वही तो हमारी कहानी का हीरो,
मैं जिसकी कहानी का जोकर रहा हूँ।

जुनूँ की हदें टूटती जा रही हैं,
न तुम डर रही हो न मैं डर रहा हूँ