भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सबद हांफळै / धनपत स्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आग थरपीजण
सबद हांफळै
चेतना-बदळाव अनै प्रीत
किता-किता धारै रूप
तप री आंच ई तपै
आस्थावां में ओटीजै
हेत में गळै
भाईपै में कुढै
किता बिलखता होसी
इक दूजै सूं मिल-मिल
जद देखता होसी
दुसाला ओढ़-नारेल झाल
नगदी पुरस्कार लेय
मुळकता आंवता
सबदां रा जमींदारां नै
लटूरिया करतां नैं!