भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सबरी बुहारै डगरिया, हो राम, सबरी / करील जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सबरी बुहारै डगरिया, हो राम, सबरी॥धु्रव॥
उमगि-उमगि नित डगरी बुहारै,
आजु मोरा अइहैं सँवरिया, हो राम.॥1॥
जनम जनम के प्यासे नैना,
छविरस पैहौं गगरिया, हो राम.॥2॥
सैंपी राम-पद प्रान-धरोहर,
होइहौं मगन बाबरिया, हो राम.॥3॥
बहुत दिवस बीते पद जोहत।
प्रभु बिनु सूनी नगरिया, हो राम.॥4॥
गुरु वचनन की एक आस मोहि,
जोहति प्रभु की डगरिया, हो राम.॥5॥
छबि रस-प्यास -करीलहू’ के उर,
कमल नयन धनुधरिया, हो राम.॥6॥