भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सबा देख इक दिन उधर आन / अहमद 'जावेद'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सबा देख इक दिन उधर आन कर के
ये दिल भी पड़ा है गुलिस्तान कर के

यही दिल जो इक बूँद है बहर-ए-ग़म की
डुबो देगा सब शहर तूफ़ान कर के

मियाँ दिल को इस आइना-रू के आगे
जो रखना तो यक-लख़्त हैरान कर के

ख़ुदा जाने क्या असलियत ग़ैर की है
दिखे है बनी-नौ-ए-इंसान कर के

उसे अब रक़ीबों में पाते हैं अक्सर
रखा जिस को ख़ुद से भी अनजान कर के

दिखा देंगे अच्छा इसी फ़स्ल-ए-गुल में
गिरेबान को हम गिरेबान कर के

हमारे तो इक घर भी है भाई मजनूँ
पड़े हैं उसी को बयाबान कर के