भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सबै बेहोसी नशा पिएर / रवि प्राञ्जल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सबै बेहोसी नशा पिएर
बिना पिएरै बेहोस छु म
अरु निर्दोषी माया भुलेर
बिना भुलेरै दोषी छु म

सपना फुटेर आँशु बनेछ
त्यो आँशु फेरि व्यथा बनेछ
आँशुका थोपा मोती बनेर
उदास मनको कथा भनेछ
सबै वेहोसी नसा पिएर

सुनसान बगरमा आँधी चलेछ
फैलेर आँधी चाहना बनेछ
नअँटेर माया अञ्जुली भरेर
ढलपल आँखा सागर खुलेछ