भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब ओलंपिक जीत लिये हैं / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 मम्मी किसको डाले दाने,
चिड़ियों के अब नहीं ठिकाने|

 पितृ पक्ष में पापा कहते,
कौये जाने कहां रमाने|

 तरस गईं हैं कब से दादी,
नील कंठ के दर्शन पाने|

 मुर्गे अब तैयार नहीं हैं,
सुबह सुबह से बांग लगाने|

 नहीं दिख रहे अब कठ फोड़े,
कहां चले गये हैं न जाने|

 था गरीब का भोजन कोदों,
दुर्लभ हैं अब उसके दाने|

 पापा कितने पैदल चलते,
मां से पूछा है दादा ने|

 रोटी पर अधिकार जमाया,
चीज़ और वर्गर पिज्जा ने|

 सब ओलंपिक जीत लिये हैं,
बेशर्मी और लाज हया ने|